हैवानियत : ग्रेजुएशन की छात्रा से गैंगरेप, तीन गिरफ्तार, पीड़िता बोली- उन्हंल फांसी दिला दीजिए सर

हैवानियत : ग्रेजुएशन की छात्रा से गैंगरेप, तीन गिरफ्तार, पीड़िता बोली- उन्हंल फांसी दिला दीजिए सर

औरंगाबाद । ग्रेजुएशन की एक छात्रा को दिन-दहाड़े उसके गांव के ही पांच युवकों ने अगवा कर लिया और बारी-बारी उसके साथ गैंगरेप किया। मुफस्सिल थाने की पुलिस ने दर्द से कराह रही पीड़िता को बरामद करते हुए तीन दुष्कर्म के आरोपियों को हाइवे से गिरफ्तार कर लिया। घटना देव मोड़ समीप हाईवे की है। गिरफ्तार  आरोपियों में राहुल कुमार, अविनाश कुमार व पंकज कुमार शामिल है। जबकि दो आरोपी फरार हैं। सभी आरोपी पीड़िता के गांव के ही रहने वाले हैं। पीड़िता मदनपुर थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली है। उसकी स्थिति नाजुक बनी हुई है। इस मामले में पीड़िता के बयान पर एफआईआर दर्ज की गई है। जिसमें गिरफ्तार तीनों आरोपी को नामजद आरोपी बनाया गया है। पूछताछ के बाद तीनों दुष्कर्मियों को रिमांड के लिए कोर्ट भेज दिया गया है। बताते चलें कि पीड़िता में गया में रहकर पढ़ाई करती है। वह दशहरा में अपने गांव आई थी। उसका परिवार आर्थिक तौर पर कमजोर है।
पड़ोस की सहेली के घर जा रही थी पीड़िता, इसी दौरान किया अगवा 
शनिवार की दोपहर पीड़िता पड़ोस की एक सहेली के घर जा रही थी। इसी दौरान आरोपियों ने उसे एक गाड़ी से अगवा कर लिया। फिर इसमें कुछ और अपराधी शामिल हुए। अारोपियों ने उसे औरंगाबाद शहर के एक निजी मकान में लाया। जहां घंटों तक उसके साथ दुष्कर्म किया। उसके बाद दुष्कर्मियों ने किसी से न बताने की धमकी दी और कहा कि अगर वह अपना मुंह खोलेगी तो उसकी हत्या कर देंगे। परिवार को भी नहीं छोड़ेंगे। इसके बाद उसे वे लोग एक ऑटो में बैठाकर ले जा रहे थे, लेकिन रास्ते में ऑटो रूकने पर पुलिस के हत्थे चढ़ गए। पुलिस औरंगाबाद के निजी मकान के बारे में पता कर रही है।
हाईवे पर रूका था ऑटो, शक पर पुलिस पहुंची तो धराए आरोपी
शनिवार की देर शाम देव मोड़ समीप हाईवे पर एक ऑटो संदिग्ध हालत में खड़ी थी। उसके बगल में एक बाइक भी खड़ी थी। मुफस्सिल थाना की गश्ती गाड़ी को उसपर नजर पड़ी। पुलिस तलाशी लेने के लिए गाड़ी के पास पहुंची। ऑटो से पीड़िता को कराहने की आवाज मिल रही थी। पुलिस ने ऑटो को घेर लिया। इसी बीच बाइक सवार दो दुष्कर्मी फरार हो गए। इसके बाद गाड़ी से तीन दुष्कर्मियों को गिरफ्तार किया गया। पीड़िता को घायल अवस्था में बरामद किया। फिर गिरफ्तार दुष्कर्मियों को मदनपुर थाना भेज दिया गया। इसके बाद इसकी सूचना पीड़िता व आरोपियों के परिजनों को दी गई।

पुलिस पहुंची तो पीड़िता की बची जान, वरना हो सकती थी हत्या
अगर मुफस्सिल थाना पुलिस की गश्ती गाड़ी समय पर नहीं पहुंचती तो पीड़िता की जान भी जा सकती थी। क्योंकि शहर में दुष्कर्म करने के बाद आरोपी पकड़ाने के डर से घबराए हुए थे। देव मोड़ के समीप ऑटो को खड़ाकर कई तरह के प्लान बना रहे थे। तभी पुलिस मौके पर पहुंची और तीन को दबोच लिया। तब जाकर पीड़िता की जान बची। हालांकि पुलिस अधिकारी इस मामले को प्रेम-प्रसंग से भी जोड़ रहे हैं, लेकिन गैंगरेप की बात को भी मान रहे हैं। जबकि पीड़िता के परिजनों ने कहा कि पुलिस अपनी बदनामी को छिपाने के लिए इस मामले को कमजोर करना चाहती है। 
जमादार ने पीड़िता के परिवार को अपशब्द कहा
घटना के बाद पीड़िता के गांव व इलाके में तनाव व्याप्त है। ग्रामीण आरोपियों के खिलाफ नारेबाजी की। सूचना पर मदनपुर थाना के जमादार सुनील कुमार राय दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। समझाने के बजाए जमादार ने पीड़िता के परिवार को ही अपशब्द कहा। जिसके बाद ग्रामीणों का गुस्सा भड़क उठा और वे सड़क पर उतकर हंगामा करने लगे और जमादार को निलंबित करने की मांग करने लगे। सूचना पर सदर एसडीपीओ व अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। कार्रवाई का आश्वासन देकर मामला शांत करवाया। पुलिस गांव में कैंप कर रही है। 
आरोपियों को स्पीडी ट्रायल चला दिलायी जाएगी सजा 
दुष्कर्म मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। स्पीडी ट्रायल चलाकर उन्हें सजा दिलायी जाएगी। पुलिस इस मामले में गंभीरता  से तहकीकात कर रही है।
कान्तेश कुमार मिश्रा, एसपी, औरंगाबाद