सुपौल के जदिया में झूला झूलने में महिला से छेड़खानी के विवाद में मेला मालिक के बेटे को मारी गोली

सुपौल के जदिया में झूला झूलने में महिला से छेड़खानी के विवाद में मेला मालिक के बेटे को मारी गोली

सुपौल । थाना क्षेत्र के पिलुवाहा पंचायत के मोहलिया चौक के समीप भगवान विश्वकर्मा की प्रतिमा विसर्जन के दौरान झूला झूलने के समय एक महिला से छेड़खानी ने बड़ा विवाद का रूप ले लिया। मधेपुरा जिले के भतनी ओपी क्षेत्र के भोकराहा गांव से मेला देखने गए कुछ लड़कों ने मेला मालिक के पुत्र समेत दो लोगों को गोली मार दी। मेला मालिक जागो सरदार के पुत्र महानंद सरदार के पेट में गोली लगने से हालत नाजुक बताई जा रही है। जबकि गोली लगने से घायल जलेबी दुकानदार का स्थानीय स्तर पर उपचार किया जा रहा है। सभी युवक बाइक पर सवार होकर अपने भोकराहा की ओर भाग गए। 
दूसरी ओर, घटना के बाद मेला में अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया। मूर्ति विर्सजन में आए लोग इधर-उधर भागने लगे। किसी तरह से मूर्ति का विर्सजन किया गया। परिजनों ने गंभीर रूप से जख्मी मेला मालिक के पुत्र को अनुमंडलीय अस्पताल त्रिवेणीगंज लाया।, जहां से प्रथमिक उपचार के बाद उसे सहरसा रेफर कर दिया गया। दूसरी ओर, घटना की जानकारी होने के बाद पुलिस ने पहुंचकर मामले की छानबीन की। बताया गया कि प्रशासन की ओर से विश्वकर्मा पूजा को लेकर सिर्फ प्रतिमा स्थापित करने की अनुमति ली गई थी। मेला लगाने की अनुमति नहीं दी गयी थी। बावजूद मेला कमेटी द्वारा मेला के साथ-साथ लोक नाच आदि का आयोजन किया गया था। थानाध्यक्ष राजेश चौधरी का कहना है कि सिर्फ प्रतिमा स्थापित करने का आदेश दिया गया था। यही कारण है कि वहां पुलिस बल नहीं था।
मधेपुरा जिले के भोरकाहा के युवकों ने किया था विवाद
जानकारी के अनुसार महोलिया चौक के समीप विश्वकर्मा पूजा के अवसर पर प्रतिमा स्थापित कर मेला का आयोजन किया गया था। इसी दौरान रविवार की रात मेला कमेटी द्वारा लोक नाच सतीझूला का आयोजन किया गया था। नाच के दौरान ही रात के एक बजे के करीब खूंट गांव के युवकों व मधेपुरा जिले के भतनी ओपी क्षेत्र के भोकराहा गांव के युवकों के बीच मामूली बात को लेकर तू-तू व लड़ाई-झगड़ा शुरू हो गया। इसके बाद मेला मालिक जागो सरदार के पुत्र महानंद सरदार द्वारा बीच-बचाव करने पहुंचे, तो भोकराहा के युवक उनसे उलझ गया और घक्का-मुक्की भी हो गई। युवकों ने मेला मालिक के पुत्र को धमकी देते हुए देख लेने की बात कह चले गए थे।
विसर्जन के समय दिया घटना को अंजाम
लोगों को लगा कि मामला शांत हो गया। लेकिन चार बजे सुबह के करीब जब मूर्ति विसर्जन किया जा रहा था तो भोकराहा से दर्जनों युवक हथियार लैस होकर मेला में आए और उत्पात मचाना शुरू कर दिया। मेला मालिक के पुत्र महानंद सरदार हो हल्ला सुनकर फिर वहां पहुंचे तो भोकराहा गांव के युवकों ने उसे पेट में गोली मारकर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। मौके पर ही जब एक जलेबी दुकानदार बीच-बचाब करने आया तो दुकानदार के पैर में गोली मार दी। इसके बाद तीन-चार राउंड फायरिंग करते हुए भाग गए।
जख्मी के परिजनों द्वारा आवेदन प्राप्त नहीं हुआ है। घटना स्थल पर पहुंच कर जांच की जा रही है। घटना में शामिल दोषियों विरुद्ध उचित कार्रवाई की जाएगी।
-राजेश चौधरी, थानाध्यक्ष, जदिया