श्मशान घाट पर नदी के किनारे मिली युवक की उंगली कटी लाश, चेहरे और पैर भी धारदार हथियार से काटे गए 

श्मशान घाट पर नदी के किनारे मिली युवक की उंगली कटी लाश, चेहरे और पैर भी धारदार हथियार से काटे गए 

 नरकटियागंज । शिकारपुर थाना के कोइरगांवा गांव के पास पंडई नदी के किनारे श्मशान घाट पर एक युवक का छत विक्षत शव मिलने से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे लेकर पोस्टमार्टम के लिए बेतिया भेज दिया है। मृतक की पहचान साठी थाना के सिंहपुर सतवरीया गांव निवासी विक्रम महतो के 22 वर्षीय पुत्र जितेंद्र कुमार के रूप में की गई है। शव को देखने से प्रतीत हो रहा था कि धारदार हथियार से उसकी नृशंस हत्या की गई है। मृतक के चेहरे, हाथ और पैर पर धारदार हथियार के गहरे जख्म के निशान मिले हैं। शव के पास उसकी हाथ की एक अंगुली कटी मिली है। शिकारपुर थानाध्यक्ष अजय कुमार ने बताया कि मृतक की मां रामपति देवी के आवेदन पर अज्ञात अपराधियों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कर ली गई है। वहीं एसडीपीओ कुंदन कुमार ने बताया कि अभी इस संबंध में कुछ भी कहना जल्दीबाजी होगी। पुलिस पुरी तहकीकात कर रही है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।
एटीएम व आधार से हुई लाश की पहचान 
लोग सोमवार की सुबह नदी किनारे कुछ लोग शौच के लिए गए थे। वहीं लाश को देखकर लोग शोर मचाने लगे। उसके बाद गांव के अन्य लोग भी पहुंच गए। सूचना पर एसडीपीओ के साथ शिकारपुर पुलिस घटनास्थल पर पहुंच पड़ताल में जुट गई। थानाध्यक्ष अजय कुमार ने बताया कि मृतक की पहचान उसके पॉकेट के पर्स में रखें आधार कार्ड, एटीएम कार्ड से की गई है। वहीं शव के पास कुछ दूरी पर स्थित गन्ने के खेत से चप्पल मिला है। थानाध्यक्ष ने बताया कि शव को देखने से प्रतीत हो रहा है कि जिस जगह उसका शव मिला है, उसी जगह पर उसकी हत्या धारदार हथियार से की गई है।
सुबह 9 बजे आधार कार्ड बनवाने गए थे, तीन बजे आए
जितेंद्र की पत्नी किरण देवी ने पुलिस को बताया कि रविवार को 9 बजे सुबह में उसका आधार कार्ड बनवाने के लिए घर से निकले थे। 3 बजे वह घर पर आएं और खाना खाकर बच्ची के साथ खेलने लगें। अचानक फोन आया। उसके बाद संध्या 5 बजे वह यह कहकर घर से निकले की किसी काम से जा रहें हैं।
बाहर में रह मजदूरी करता था जितेंद्र, 4 माह पहले ही आया था घर
जितेंद्र की मां रामपति देवी ने बताया कि इसके पिता बाहर में रहकर मजदूरी का काम करते हैं। जितेन्द्र तीन बहनों के बीच एकलौता पुत्र था। इसकी शादी दो साल पहले हुई थी। इसकी एक 8 माह की पुत्री भी है। जितेन्द्र भी बाहर में रहकर मजदूरी का काम करता था। इधर चार माह पहले वह हैदराबाद से घर आया हुआ था।
मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए बेतिया भेज दिया गया है। मृतक का मोबाइल घटनास्थल से गायब है। जिसकी जांच की जा रही है। हत्या में शामिल अपराधियों को बहुत जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 
-कुंदन कुमार, एसडीपीओ