शादी की हल्दी रस्म के दौरान कुएं में गिरने से 13 की मौत, पूजा ने मां समेत पांच को बचाया, छठे को निकालने के दौरान खुद कुएं में डूब गई

शादी की हल्दी रस्म के दौरान कुएं में गिरने से 13 की मौत, पूजा ने मां समेत पांच को बचाया, छठे को निकालने के दौरान खुद कुएं में डूब गई

लखनऊ । उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में शादी की एक रस्म के दौरान कुएं में गिरने से 13 बच्चियों और महिलाओं की मौत हो गई। इनमें 21 साल की बहादुर बेटी पूजा यादव भी शामिल है, जिसने मां समेत पांच लोगों की जान बचाई। छठे को कुएं से निकालने का क्रम में उसका संतुलन बिगड़ा और डूबने से पूजा की मौत हो गई। कुशीनगर जिले के नौरंगिया गांव में बुधवार रात परमेश्वर कुशवाहा के बेटे की हल्दी की रस्म चल रही थी। इसके पहले एक और परिवार ने इसी कुएं पर हल्दी की रस्म पूरी की थी। इस दौरान एक साथ ज्यादा लोगों के खड़े होने के छत ढही और लोग कुएं में गिर पड़े। मौके पर पहुंचे आपदा राहत बचाव दल ने बताया कि कुएं में गैस भी थी, इसके चलते इतने लोगों की जान गई।
प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक लोग कुएं में गिरे तो अफरा-तफरी मच गई। पूजा के चिल्लाने की आवाज सुनकर सबसे पहले वहां विपिन पहुंचे। अन्य लोगों के पहुंचने के साथ ही विपिन की मदद से पूजा ने पांच लोगों को बाहर निकाला। पूजा ने सबसे पहले कुएं में डूब रही अपनी मां लीलावती को बचाया। इसके बाद उसने दो बच्चों समेत चार अन्य लोगों को कुएं से निकाला। छठवीं जान बचाते वक्त संतुलन बिगड़ने से वह कुएं में गिरी और डूब गई। सेना में भर्ती की तैयारी कर रही पूजा बीए सेकंड ईयर की छात्रा थी। उसके दो भाई हैं। मौके पर पहुंचे एसडीएम महात्मा सिंह ने कहा कि प्रशासन पूजा को बहादुरी का सम्मान दिलाएगा। प्रदेश सरकार ने पीड़ित परिवारों को 4-4 लाख की सहायता दी है।