लखीसराय में देवर के प्रेम में 1.61 लाख की सुपारी दे पति की कराई हत्या, चार गिरफ्तार

लखीसराय में देवर के प्रेम में 1.61 लाख की सुपारी दे पति की कराई हत्या, चार गिरफ्तार

लखीसराय । हलसी थाना क्षेत्र के गौरा गांव निवासी सुरेंद्र यादव की हत्या उनकी ही पत्नी ने कराई थी। महिला का देवर के साथ प्रेम-प्रसंग चल रहा था। इसकी को लेकर उसने 1 लाख 61 हजार में पति की सुपारी देकर हत्या करा दी और उसका आरोप कैंदी गांव के ही कुछ लोगों पर लगा दिया। लेकिन पुलिस ने जब मामले की जांच शुरू को तो पूरा मामला ही उलट गया। पुलिस ने मास्टरमाइंड गुलफुल देवी, देवर रवींद्र यादव और हत्याकांड के मुख्य शूटर सुनील कुमार मिस्त्री उर्फ कम्प्यूटर और रुदल ढाढ़ी को गिरफ्तार कर लिया है। बताते चलें कि आरोपी महिला गुलफुल देवी और उसके देवर रवींद्र यादव के बीच 10 वर्षों से प्रेम संबंध था। जिसकी भनक उसके पति सुरेंद्र यादव को लग गई थी। इस कारण गुलफुल देवी ने रवींद्र यादव के साथ मिलकर अपने पति की हत्या का प्लान बनाया और उसकी सुपारी दे दी। 15 अगस्त की शाम हत्या की घटना को अंजाम देने के बाद हत्यारा जमुई जिले के देवाचक गांव में शरण लिए हुए था। पुलिस की मोबाइल सर्विलांस टीम के अलावा मलयपुर थानाध्यक्ष विजय कुमार एवं तकनीकी सेल के राज्यवर्धन के प्रयास से गिरफ्तार किया गया। बताया गया कि इनलोगों का नक्सल कनेक्शन भी है।

अपराधियों से गुलफुल की होती थी बात
हत्याकांड के मास्टरमाइंड और अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद आयोजित प्रेस वार्ता में एसडीपीओ ने बताया कि हत्या के बाद उन्हें गुलफुल देवी के बयान और उसकी हरकतों पर शक हुआ। इस वजह से उन्होंने उसके फोन को सर्विलांस पर लिया और उसकी गतिविधि पर तकनीकी नजर रखनी शुरू की। इसमें उन्हें महिला के मुख्य आरोपी से बातचीत के सुराग मिले। इसके आधार पर पुलिस ने रामगढ़ चौक थाना क्षेत्र के कोली निवासी सुनिल कुमार मिस्त्री उर्फ कंप्यूटर और बादशाह गांव निवासी रुदल ढाढ़ी को जमुई जिले के देवाचक से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार दोनों अपराधियों से जब पूछताछ की गई तो हत्या के मास्टरमाइंड के बारे में पता चला। दोनों की निशानदेही पर पुलिस ने गुलफल देवी और उसके देवर रवींद्र यादव को गौरा गांव से गिरफ्तार कर लिया। साथ ही पुलिस ने साजिश में प्रयुक्त मोबाइल को भी बरामद कर लिया। 

देवर को भी दी थी मरवाने की धमकी
सुरेंद्र यादव की हत्या में शामिल उसके सगे भाई रवींद्र यादव ने कहा कि उसकी भाभी गुलफुल देवी के बीच 10 वर्षों से अवैध संबंध है। उसकी अपनी पत्नी से चार बच्चे हैं, जबकि भाभी को तीन बच्चा है। रवींद्र ने ही भाई की हत्या करवाने के लिए उकसाया। भाभी गुलफुल देवी और रवींद्र यादव के बीच सुरेंद्र कांटा बन रहा था। आरोपी रवींद्र को गुलफुल देवी ने कहा कि यदि सुरेन्द्र की हत्या नहीं करवाई तो तुम्हारी ही हत्या करवा दूंगी।

एक लाख 61 हजार रुपए की सुपारी में से शूटर को मिला था मात्र 10 हजार
सुरेन्द्र यादव की हत्या की सुपारी उनकी पत्नी ने ही एक लाख 61 हजार रुपया में दिया था। फिलहाल सुपारी की राशि में मात्र 10 हजार रुपए का भुगतान किया गया था।

मुख्य शूटर का है आपराधिक कुंडली
पुलिस अधीक्षक सुशील कुमार ने बताया कि कोली निवासी मुख्य शूटर सुनील कुमार मिस्त्री उर्फ कंप्यूटर का पुराना आपराधिक इतिहास रहा है उसके विरुद्ध हलसी थाना में हत्या और आर्म्स एक्ट का मामला दर्ज है उन्होंने बताया कि इस घटना में साजिश के तहत प्राथमिकी नामजद अभियुक्तों को दुश्मनी के कारण फसाया गया था कांड में नामजद अभियुक्तों की कोई संलिप्तता नहीं पाई गई है। ज्ञात हो कि प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसडीपीओ रंजन कुमार प्रशिक्षु डीएसपी, हलसी थाना अध्यक्ष अवधेश कुमार, रामगढ़ चौक थानाध्यक्ष अरविंद कुमार आदि मौजूद थे।