मधेपुरा के सिंहेश्वर में प्रेम-प्रसंग में चचेरे देवर ने भाभी का गला रेता, गिरफ्तार

मधेपुरा के सिंहेश्वर में प्रेम-प्रसंग में चचेरे देवर ने भाभी का गला रेता, गिरफ्तार

मधेपुरा । मधेपुरा के सिंहेश्वर थाना क्षेत्र के लालपुर सरोपट्टी पंचायत में प्रेम प्रसंग में एक चचेरे देवर ने अपनी ही भाभी के घर में घुसकर दिनदहाड़े चाकू से गला रेतकर उसकी हत्या कर दी। हालांकि मृतका के पुत्र के हल्ला करने के बाद आरोपी युवक को चौकीदार नोजो ने खदेड़कर काली चौक से उसे पकड़ लिया। जिसे बाद में पुलिस के हवाले कर दिया गया। हालांकि घटना में इस्तेमाल किया गया चाकू अब तक पुलिस बरामद नहीं कर सकी है। घटना की जानकारी मिलने के बाद महिला के मायके सहरसा जिले के नवहट्टा बाजार से भी उसके परिजन आ गए। उन लोगों की मांग थी कि घटना में शामिल अन्य लोगों की गिरफ्तारी के बाद ही शव को पोस्टमार्टम के लिए जाने दिया जाएगा। हालांकि थानाध्यक्ष के समझाने के बाद लोगों ने शव को पोस्टमार्टम के लिए जाने दिया गया। 
बताया गया कि सहरसा जिले के नवहट्टा बाजार निवासी 30 वर्षीया जूही प्रवीण की शादी लालपुर सरोपट्टी पंचायत के मुस्लिम टोला वार्ड संख्या-दो निवासी मो. इदो के पुत्र मो. शाहिद से हुई थी। शादी के बाद उसे दो बेटा और दो बेटी थी। उसके पति लगातार दिल्ली-पंजाब में रहकर काम करते हैं। बताया गया कि इसी दौरान जूही का अपने चचेरे देवर मो. आलम शाह से नजदीकी हो गई। आलम उसके ऐशो आराम का सामना भी खरीदकर देता था। दोनों के प्रेम-प्रसंग के किस्से समाज में होने लगे। इससे परेशान होकर 15 दिन पहले गांव में एक पंचायत बैठाई गई। जिसमें मामले को रफा-दफा करते हुए दोनों के एक-दूसरे से मिलने पर पाबंदी लगा दी गई। इसके बाद परिवार के लोगों ने आलम को को दिल्ली भेज दिया। लेकिन जूही के प्रेम-प्रसंग में पागल आलम आठ दिन बाद ही दिल्ली से वापस लौट आया।
परिवार के सदस्य गए थे बारात 
बताया गया कि दिल्ली से आने के बाद मो. आलम, जूही से मिलने की फिराक में लगा रहता था। लेकिन पाबंदियों के कारण उसे मौका नहीं मिल पा रहा था। इसी बीच शनिवार को जूही के भांजा मो. तुफेल की शादी होने वाली थी। उस शादी में शामिल होने के लिए जूही के घर के सभी लोग सुपौल जिले के पिरगंज गए हुए थे। दोपहर 12 बजे के करीब पिरगंज से बारात निकली। आलम को लगा कि अब जूही से मिलने में कोई बाधक नहीं है। इसके बाद दोपहर एक बजे के आसपास आलम, जूही पास गया और उसे कमरे में बंद कर लिया। हालांकि जूही को कमरे में बंद करने की हरकत को जूही के 8 वर्षीय पुत्र शाजिद ने देख लिया। इसके बाद वह किवाड़ के पास आकर जोर-जोर से आवाज देने लगा। लेकिन मो. आलम पर प्यार का नशा चढ़ा हुआ था। अनुमान लगाया जा रहा है कि शायद विरोध करने के कारण मो. आलम ने तेज धारदार हथियार से जूही का गला रेत दिया। वहां से भागने के क्रम में मामले की जानकारी गांव के चौकीदार नाजो को हो गई। इसके बाद उसने खदेड़कर आरोपी को काली चौक के समीप पकड़ लिया। इधर, घटना की जानकारी मिलते ही मृतका के उसके बड़े पापा रमजानी साह, भाई नबाब अली और सिराजुद्दीन आदि भी वहां पहुंच गए।
आरोपी को किया गया है गिरफ्तार 
मामला प्रेम-प्रसंग का है। हत्यारे को गिरफ्तार कर लिया गया है। लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। आवेदन के आधार पर एफआईआर दर्ज कर मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी। 
-सियावर मंडल, थानाध्यक्ष, सिंहेश्वर