मौत से चीख-पुकार में बदल गए जिंदाबाद के नारे, प्रचार वाहन में बैठ गए दर्जनभर बच्चे, पलटने से चार की गई जान

मौत से चीख-पुकार में बदल गए जिंदाबाद के नारे, प्रचार वाहन में बैठ गए दर्जनभर बच्चे, पलटने से चार की गई जान

नवादा । चुनाव प्रचार के अंतिम दिन शक्ति प्रदर्शन के लिए निकाली गई चुनावी रैली गांव में मातम का कारण बन गया। इस रैली में चंद मिनट पहले तक लग रहे जिंदाबाद के नारे अचानक दर्दनाक चीख में बदल गई। चुनावी माहौल में चीख-पुकार से कोहराम मच गया। देखते ही देखते गांव के चार नौनिहाल काल के गाल में समा गए। यह हादसा अकबरपुर प्रखंड के असमा-कझिया मार्ग पर हुआ जहां पंचायत चुनाव प्रचार वाहन पलटने से चार बच्चों की मौत हो गई। इस हादसे 5 बच्चे गंभीर रूप से जख्मी हुए हैं। जख्मियों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना की सूचना मिलने के बाद पूर्व विधायक अनिल सिंह भी मौके पर पहुंचे और शोकाकुल परिजनों को ढांढस बंधाया। बताया जाता है कि पंचायत समिति उम्मीदवार निर्मला देवी का चुनावी प्रचार वाहन अंतिम दिन गांव में चुनाव प्रचार कर रहा था। प्रचार वाहन जब गांव पहुंचा तो उसमें करीब एक दर्जन बच्चे सवार हो गए। वाहन गांव से निकलकर दूसरे गांव जा रहा था इसी दौरान असमा-कझिया मार्ग पर सड़क पर गीली मिट्टी के चलते वाहन का टायर फिसल गया और प्रचार वाहन सीधे गड्ढे में पलट गया। इस हादसे में चार बच्चों की मौत हो गई। मरने वाले सभी बच्चों की उम्र 10 से 12 साल है और सभी छात्र थे।
मरने वाले सभी बच्चे 10 से 12 साल के 
हादसे के बाद तीन बच्चे की मौत घटनास्थल पर हो गई जबकि एक बच्चे की मौत ईलाज के क्रम में सदर अस्पताल में हो गई। मृतक बच्चों में से  उपेंद्र यादव का पुत्र सौरव कुमार,नवल पंडित का पुत्र सचिन कुमर, उपेंद्र रावत का पुत्र राजा कुमार, स्वारथ पासवान का पुत्र संतोष कुमार शामिल है। सभी का उम्र लगभग 10 से 12 वर्ष की है। पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया है।
हॉस्टल लौट जाते तो बच जाती बच्चों की जान
सड़क दुर्घटना में मारे गए 4 बच्चों में से एक उपेंद्र यादव का पुत्र सौरव कुमार हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करता है और उसके माता-पिता हरियाणा में रहते हैं। सौरभ दशहरा की छुट्टी में घर आया हुआ था। सोमवार को स्कूल खुलने के बाद उसे स्कूल लौटना था लेकिन किसी कारण लौट नहीं पाए। गांव में चुनावी रैली निकली थी वह रैली में शामिल हो गया और अंततः उसे भी हादसे का शिकार होना पड़ा। गांव में रैली के चलते ही वह रुक गया था।
सूत्रों के अनुसार लेदहा पंचायत के भाग संख्या 24 से श्रवण यादव की पत्नी निर्मला देवी जो पंचायत समिति का चुनाव लड़ रही थी। इसी को लेकर प्रत्याशी द्वारा रैली निकली गई थी। रैली में  बड़ी संख्या में बच्चे और अन्य लोग भी शामिल थे। जिसमें टेम्पो पर डीजे बंधा हुआ था और कुछ बच्चे उसपर बैठे हुए थे। इसी दौरान गोविन्दपुर बरेव पथ पर असमा और कझिया के बीच टेम्पो ड्राइवर द्वारा संतुलन खो दिया गया। जिससे टेम्पो सड़क किनारे गड्ढे में पलट गई।