भागलपुर में दहेज लिए गर्भवती पत्नी की गला रेतकर हत्या

भागलपुर में दहेज लिए गर्भवती पत्नी की गला रेतकर हत्या

पीरपैंती । एक लाख रुपए दहेज के लिए पति ने 7 माह की गर्भवती पत्नी की चाकू से गला रेत कर हत्या कर दी। दिल दहलाने वाली यह घटना महिला के मायके पीरपैंती प्रखंड के पीरपैंती बाजार पश्चिम टोला में शनिवार रात करीब 11: बजे की है। जहां मो. औरंगजेब ने पत्नी बीबी कुलसुम खातून (22 वर्ष) को मौत के घाट उतार दिया। वारदात के बाद वह खून से लथपथ घर में ही बैठा रहा। मायके वालों ने इसकी सूचना पीरपैंती पुलिस को दी। इसके बाद थानाध्यक्ष संजय सत्यार्थी पुलिस बल के साथ पहुंचे। पुलिस के आने की भनक लगते ही आरोपी भागने लगा, लेकिन जवानों ने उसे खदेड़ कर पकड़ लिया। पुलिस की पूछताछ में पति ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है। आरोपी की निशानदेही पर पुलिस ने छप्पर से हत्या में प्रयुक्त चाकू और खून से सना उसका शर्ट भी बरामद कर लिया है। इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भागलपुर भिजवा दिया। थानाध्यक्ष ने बताया कि महिला की मां के बयान पर प्राथमिकी दर्ज करने के बाद आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।
आरोपी बोला-झगड़ा करती थी पत्नी, इसलिए गला रेत कर दी हत्या
हत्या का आरोपी पति औरंगजेब ने पुलिस को बताया कि पत्नी हमेशा मेरे साथ झगड़ा करती थी। उसकी मां भी बेटी का ही साथ देती थी। इसलिए घर नहीं जाते थे। शनिवार दिन भी पत्नी से झगड़ा हुआ। सास और गांव वाले उसी का पक्ष ले रहे थे। इसके बाद उसकी हत्या करने की ठान ली। खाना खाने के बाद जब सभी सो गए तो कमरे में रखा चाकू उठाया और पत्नी का गला रेत दिया। 

एक साल पहले किया था प्रेम विवाह, शादी के बाद से ही करता था प्रताड़ित 
मृतका की मां बीबी रसीदा खातून ने पुलिस को बताया कि एक वर्ष पूर्व बेटी ने गांव के ही मो. औरंगजेब से प्रेम विवाह किया था। शादी के बाद से ही दामाद एक लाख दहेज की मांग करने लगा। नहीं देने पर वह बेटी के साथ मारपीट करता था, इसलिए बेटी अधिकतर मायके में ही रहती थी। इसे लेकर कई बार गांव में पंचायत भी हुई थी। मां ने बताया कि शनिवार को दामाद घर आया और बेटी से झगड़ा करने लगा। गांव के कुछ लोगों ने मामला शांत कराया। बेटी की तबीयत ठीक नहीं रहने के कारण रात में वह दमाद को भोजन कराने के बाद सो गई। फिर हमलोग भी छत पर सोने चले गए। रात करीब 11 बजे चिल्लाने की आवाज सुन नीचे आए तो देखा कि आंगन की झोपड़ी में दामाद कुलसुम के सीना पर बैठ कर चाकू से गला रेत रहा था। हम उसे जबरन हटाए। इसके बाद पुत्री को अस्पताल ले जा रहे थे, लेकिन रास्तें में ही उसने दम तोड़ दिया।