भाई की गला दबा कर हत्या की, जलाकर शव के टुकड़े किए, नदी में फेंका

भाई की गला दबा कर हत्या की, जलाकर शव के टुकड़े किए, नदी में फेंका

अपहरण के नाम पर परिवार से मांगता रहा 50 लाख रुपए फिरौती
 नालंदा । नगर थाना क्षेत्र से 50 लाख फिरौती के लिए अपहृत युवक की बदमाशों ने हत्या कर दी। हिरासत में लिए गए दो संदिग्धों की निशानदेही पर मंगलवार को पुलिस ने सोहसराय के आशा नगर स्थित मदर टेरेसा स्कूल परिसर से हत्या के साक्ष्य जुटाए। पूछताछ में खुलासा हुआ कि युवक को बुलाकर बदमाशों ने उसकी गला दबाकर हत्या की। फिर शव को स्कूल परिसर में पेट्रोल से जलाया। इसके बाद शव के टुकड़े को समीप के पंचाने नदी में बहा दिया। मृतक अस्पताल चौक के समीप मुसादपुर मोहल्ला निवासी विद्युत विभाग की कर्मी उर्मिला देवी का 20 वर्षीय पुत्र नीतीश कुमार है। अपहरण के दिन 16 अक्टूबर को ही बदमाशों ने युवक की हत्या कर दी थी। गिरफ्तार बदमाशों में मृतक का ममेरा भाई सहोखर निवासी स्कूल संचालक दीपक कुमार और उसका सहयोगी नूरसराय के सुल्तानपुर निवासी अजीत कुमार है। दस साल पहले दीपक के पिता ने बेटी की शादी में लिए कर्ज के बदले मृतक की मां के नाम भूमि रजिस्ट्री की थी। बदमाश उक्त भूमि की मांग कर रहा था। इसी रंजिश में हत्याकांड को अंजाम दिया गया। हत्या के बाद पुलिस जांच को गुमराह करने के इरादे से बदमाश द्वारा फिरौती के लिए अपहरण साबित करने का प्रयास कर रहा था। तकनीक के सहारे पुलिस ने घटना की गुत्थी सुलझा ली। हत्याकांड में संलिप्त अन्य बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम छापेमारी में जुटी है। सदर डीएसपी डॉ. मो. शिब्ली नोमानी ने बताया कि अपहृत की बरामदगी के लिए एसपी हरि प्रसाथ एस ने उनके नेतृत्व में टीम का गठन किया था।

अपहरण के दिन ही की हत्या
गिरफ्तार बदमाशों से पूछताछ में खुलासा हुआ कि अपहरण के दिन ही युवक की हत्या कर दी गई। बदमाशों की निशानदेही पर पुलिस आशा नगर स्थित स्कूल पहुंची। जहां नीतीश की हत्या की गई थी। बदमाशों ने युवक को गला दबाकर मारा। फिर स्कूल परिसर में शव को जलाया। शव के बचे अवशेषों को समीप के पंचाने नदी में बहा दिया। घटना स्थल से पुलिस को कई साक्ष्य मिले हैं। परिसर के पेड़ जले थे। पटना से डॉग स्क्वायड भी बुलाया गया।