फर्जीवाड़ा : मध्य बिहार ग्रामीण बैंक में ग्राहक के 18.70 लाख रुपए बैंककर्मियों ने फर्जी चेक से निकाले, खाताधारक का मोबाइल नंबर भी बदल डाला

फर्जीवाड़ा : मध्य बिहार ग्रामीण बैंक में ग्राहक के 18.70 लाख रुपए बैंककर्मियों ने फर्जी चेक से निकाले, खाताधारक का मोबाइल नंबर भी बदल डाला

दो चेक नंबर से 13 सितम्बर को सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की पटना शाखा में किया गया आरटीजीएस भुगतान
बक्सर । मध्य बिहार ग्रामीण बैंक मेन शाखा से एक ग्राहक के खाते से बैंक कर्मियों ने फर्जी चेक से खाता संख्या 70230100077171 से 18 लाख 70 हजार रुपए की अवैध तरीके से आरटीजीएस करने का मामला प्रकाश में आया है। बताया जा रहा है कि जासो गांव निवासी भोला पासवान का यह अकाउंट मध्य बिहार ग्रामीण बैंक में है। इस अकाउंट से इतनी सफाई से पैसे निकाले गए हैं कि ग्राहक को इसका पता तक नहीं चल सका है। बैंककर्मियों द्वारा ग्राहक भोला पासवान का मोबाइल नंबर तक भी बदल दिया गया। फिर अवैध निकासी की है, ताकि ग्राहक को इस बात की भनक तक न लगे। यह मामला पिछले महीने के 13 तारीख का है। इसका पता ग्राहक भोला पासवान को तब लगा जब वे 25 अक्टूबर को पैसे निकासी करने बैंक पहुंचे तो कैशियर ने बताया कि खाते में पर्याप्त रकम नहीं हैं। पैसे नहीं होने की सूचना मिलते ही भोला के होश उड़ गए। खाताधारक ने आनन-फानन में पासबुक अपडेट कराया तो पता चला कि दो चेक के माध्यम से उसके खाते से 18 लाख 70 हजार रुपए आरटीजीएस द्वारा पिछले महीने पटना स्थित सेन्ट्रल बैंक के एक खाते में ट्रांसफर कर दिये गए। भोला पासवान ने नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई है। थाना प्रभारी दिनेश कुमार मालाकार ने बताया कि भोला ने एमबीजीबी की मुख्य शाखा के कर्मियों के विरुद्ध अवैध रूप से पैसे निकासी करने का मामला दर्ज कराया है।
पैसे निकालने पहुंचे तो खाली मिला अकाउंट
बैंक कर्मियों की चालबाजी पर नजर दौड़ाई जाए तो सबसे पहले ग्राहक का मोबाइल फोन नंबर बदल दिया गया, ताकि पैसे निकाले जाने की सूचना ग्राहक को न लग सके। चेक संख्या 510616 से 8 लाख 75 हजार और चेक संख्या 51 4735 से 9 लाख 95 हजार रुपए का अवैध रूप से ट्रांसफर किया गया है।
खाताधारक को वापस मिलेंगे रुपए, जांच होगी
मिडिया से हमें जानकारी मिली है। इसकी पूरी जांच इंटेलीजेंस से कराई जाएगी। इसके लिए एसपी से मुलाकात करेंगे। 15-20 दिनों में ग्राहकों के पैसे उनके खाते में वापस कर दिये जाएंगे। 
-जेके वर्मा, एलडीएम बक्सर