पुलिस के सामने प्रेमी जोड़े को जंजीर से बांधे रखा, पंचायत ने सुनाया 21-21 हजार जुर्माने का फरमान

पुलिस के सामने प्रेमी जोड़े को जंजीर से बांधे रखा, पंचायत ने सुनाया 21-21 हजार जुर्माने का फरमान

महिला व पुरुष को आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ने पर पंचायत का तालिबानी फरमान
फारबिसगंज । फारबिसगंज थाना क्षेत्र के परवाहा पंचायत के वार्ड सात स्थित आदिवासी टोला में महिला और पुरुष के कथित अवैध संबंध को लेकर सोमवार को तालिबानी फरमान का मामला सामने आया है। रविवार रात को शादीशुदा प्रेमी युगल को आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ने पर लोगों ने दोनों को जंजीर से बांधकर ताला जड़ दिया और 21-21 हजार जुर्माना देने की सजा सुना दी। सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि यह सब पुलिस के सामने हुआ। सूचना पर पहुंची पुलिस के सामने ही आदिवासी समुदाय के लोगों ने आपस में पंचायत कर मामले को निपटाते दोनों के लिए सजा तय की। पूरे प्रकरण के दरम्यान पुलिस पूरी तरह से मूकदर्शक बनी रही। इसके बाद बैरंग लौट गए। आरोपी सुधीर कुमार पासवान शादीशुदा चार बच्चों के पिता हैं। महिला को दो पुत्र एवं एक पुत्री है।  दरअसल परवाहा पंचायत के अधीन वार्ड संख्या छह एवं सात में आदिवासी समुदाय के कुछ लोगों के द्वारा अवैध रूप से शराब का निर्माण कर बिक्री करते हैं। शराब का सेवन करने के उद्देश्य से दूरदराज से लोग पहुंचते हैं। इसी कड़ी में नरपतगंज थाना क्षेत्र के गड़गामा निवासी सुधीर कुमार पासवान भी एक साल से आदिवासी टोला पहुंचकर शराब का सेवन करता था और रात में लौट आता था। सुधीर पासवान जिस महिला के घर शराब पीने जाया करता था। उस घर की एक महिला से प्रेम संबंध स्थापित हो गया। रविवार रात दोनों को लोगों ने आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया। इसके बाद लोग दोनों को पकड़कर जंजीर में बांध दिया और फिर पंचायत बैठाई गई। सूचना पर पुलिस भी पहुंची और मूकदर्शन बनी रही।  पुलिस को जब घटना की जानकारी मिली तो परवाहा कैम्प प्रभारी विश्वमोहन पासवान और फारबिसगंज थाना पुलिस पदाधिकारी परवेज अहमद पुलिस बलों के साथ मौके पर पहुंचे। इसके बाद स्थिति का अवलोकन भी किया, मगर उनलोगों के पंचायती के दौरान पुलिस अपनी कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई। पंचायत में पंचों ने दोनों को समाज के सरिया के मुताबिक सजा मुकर्रर कर प्रक्रिया पूरी करने के बाद दोनों को छोड़ दिया। इसके बाद मूकदर्शक बनी पुलिस बैरंग लौट गई।

मारपीट का एक वीडियो भी आया सामने
दोनों को आपत्तिजनक स्थिति में पकड़े जाने के बाद जंजीर से बांधकर मारपीट का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। जुर्माने की राशि को समुदाय के फंड में जमा किए जाने की बात की जानकारी दी गई है। फारबिसगंज थाना से मौके पर पहुंचे पुलिस पदाधिकारी से पूछे जाने पर उन्होंने घटनास्थल पर लोगों की संख्या अधिक होने के कारण दो थाना की पुलिस के पहुंचने की बात कही। स्थानीय मुखिया प्रतिनिधि ने मामले पर कुछ भी कहने से साफ इंकार कर दिया।
समुदाय के लोगों ने कहा-खुद करेंगे फैसला
परवाहा पुलिस कैम्प प्रभारी विश्वमोहन कुमार ने बताया कि सूचना के बाद परवाहा कैम्प के बलों और फारबिसगंज थाना से आये पुलिस पदाधिकारी परवेज अहमद के साथ मौका पर पहुंचे, जहां आदिवासी समुदाय के लोगों के बीच संबंधित मामले को लेकर पंचायत लगी थी। डीएसपी रामपुकार सिंह ने कहा कि इस मामले की पूरी जानकारी लेने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।