प्रेम-प्रसंग में युवक को अगवाकर पीटा, फिर गला घोंटकर मार डाला, परिजन बोले- जिसकी बेटी से मेरा बेटा करता था प्यार, उसी ने मार डाला

प्रेम-प्रसंग में युवक को अगवाकर पीटा, फिर गला घोंटकर मार डाला, परिजन बोले- जिसकी बेटी से मेरा बेटा करता था प्यार, उसी ने मार डाला

औरंगाबाद । प्रेम प्रसंग में युवक को पहले अगवा किया और फिर बेरहमी से पीटा। इससे भी जी न भरा तो आरोपियों ने उसे गला घोटकर मार डाला। उसके बाद शव को छिपाने के लिए पइन में फेंक दिया। पुलिस शव को पइन से बरामद कर लिया है। घटना बारूण थाना क्षेत्र के परसुरामपुर गांव की है। मृतक 23 वर्षीय पवन कुमार उर्फ छोटू उसी गांव के सुरेंद्र ठाकुर का बेटा था। पुलिस ने शव को पइन से बरामद कर तहकीकात शुरू कर दिया। शव को पोस्टमार्टम कराकर पुलिस ने परिजनों को सौंप दिया। इस मामले में परिजनों ने तीन दिन पहले ही अपहरण का मामला दर्ज कराया था। शव बरामद होने के बाद परिजनों ने उक्त आरोपियों पर ही हत्या का मामला दर्ज कराया है। जिसमें लड़की के पिता धर्मेंद्र राम समेत पांच लोगों को नामजद आरोपी बनाया है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।
पानी में तैरता नजर आया शव, तब हुआ हत्या का खुलासा
सोमवार की सुबह परसुरामपुर गांव के ग्रामीण बधार में टहलने निकले। इस दौरान ग्रामीणों की नजर गांव के बाहर पईन में पड़ी। जिसे देखकर वे चौंक गए। पईन के पानी में एक युवक का शव तैर रहा था। यह देखते ही ग्रामीण शोर मचाना शुरू किए। फिर क्या था। देखते ही देखते दर्जनों लोग मौके पर पहुंच गए। कपड़ा देखकर ग्रामीण शव को पहचान गए। फिर इसकी सूचना उसके परिजनों को दी गई। परिजन मौके पर पहुंचे और कपड़ा देखकर शिनाख्त किए और दहाड़ मारकर रोने लगे। घर में कोहराम मच गया।
घटना के बाद से आरोपी फरार, छापेमारी जारी
घटना के बाद से आरोपी फरार हो चुके हैं। पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। पुलिस का कहना है कि अगर आरोपियों को गलत तरीके से फंसाया जा रहा है तो उन्हें आकर सच बताना चाहिए। अगर हत्या कर के भाग रहे हैं तो उन्हें गिरफ्तार होने से कोई बचा नहीं सकता। क्योंकि कानून का हाथ बहुत लंबा है। एसपी कान्तेश कुमार मिश्र ने बताया कि पुलिस आरोपियों की धर-पकड़ के लिए लगातार छापेमारी कर रही है। जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
परिजनों ने अपहरण का मामला दर्ज कराया था
मृतक पवन कुमार उर्फ छोटू के पिता सुरेंद्र ठाकुर बेटे को गायब होने के बाद स्थानीय बारूण थाना में अपहरण का मामला दर्ज कराया था। जिसमें कहा था कि मेरे बेटे पंकज के मोबाइल पर मनोज कुमार गुप्ता ने फोनकर बोला की अपने भाई पवन उर्फ छोटू को नीरज के दलान पर ताश के साथ भेज दो। जिसके बाद मेरा बेटा वहां पर चला गया, लेकिन उसके बाद उसका पता नहीं चला। धर्मेंद्र राम की बेटी से उसका प्रेम प्रसंग चल रहा था। जिसकी खुन्नस में मेरे बेटे को अगवा कर लिया गया है। इस आवेदन के साथ ही मृतक के पिता ने पुलिस से गुहार लगाया था कि आरोपियों को पकड़कर मेरे बेटे को बचा लीजिए। पुलिस मामले को हल्के में लिया। क्योंकि यह प्रेम प्रसंग से जुड़ा हुआ था और फिलहाल गांव-गांव में चुनावी रंजिश में झगड़ा हो रहा है। सही-गलत हर तरह के मामले दर्ज हो रहे हैं। पुलिस अपने स्तर से तहकीकात में जुटी थी। इसी बीच आरोपियों ने युवक को मार दिया और पहचान छिपाने के लिए शव को पइन में फेंक दिया, लेकिन गुनाह छिपता नहीं और वह पानी के सतह पर आ गया। आरोपियों का अपराध बेनकाब हुआ।