तीन साल पहले जिस भांजे ने पति की हत्या की, अब उसी ने पूर्व मुखिया मुन्नी को मारी गोली

तीन साल पहले जिस भांजे ने पति की हत्या की, अब उसी ने पूर्व मुखिया मुन्नी को मारी गोली

बांका  । अमरपुर थाना क्षेत्र के कुशमाहा पंचायत की पूर्व मुखिया मुन्नी देवी को आपसी विवाद में भांजे ने शुक्रवार को गोली मारकर जख्मी कर दिया। गंभीर स्थिति में परिजनों ने उपचार के लिए अमरपुर स्थित रेफरल अस्पताल लेकर आये। अस्पताल प्रभारी चिक्तिसक ने प्राथमिक उपचार करने के बाद गंभीर स्थिति को देखते हुए बेहतर उपचार के लिए मायागंज भागलपुर रेफर कर दिया। घटना की सूचना मिलने पर अमरपुर सर्किल इंसपेक्टर सुबोध कुमार राव, थानाध्यक्ष मो. सफदर अली, सहायक अवर निरीक्षक खुर्शीद आलम पुलिस बलों के साथ अस्पताल पहुंच कर मुखिया के पुत्र का बयान को दर्ज किया है। मुखिया का उपचार कर रहे डॉक्टर ने मुखिया की स्थिति चिंताजनक बताई है। गोली मारने वाला निवर्तमान मुखिया मुन्नी देवी की ननद का पुत्र उपेंद्र उर्फ ओपी मंडल है। जो मूलरूप से कजरा गांव का है। लेकिन पिछले एक दशक से बाछनी गांव में ही घर बनाकर रह रहा था। कई ग्रामीणों ने बताया कि मुखिया पति के हत्या में उपेंद्र मंडल के अलावा बाछनी उत्तरी टोला के उसके रिश्तेदार  सीताराम मंडल एवं उसका तीन पुत्र समेत एक दर्जन आरोपित है, जो फिलवक्त जेल में है।
चुनाव जीतने के लिए पति के हत्यारे से किया समझौता
पिछले पंचायत चुनाव में नवल किशोर चौहान ने सीताराम मंडल के सहयोग से ही पत्नी को मुखिया बनाया था। लेकिन मुखिया बनने के बाद नवल किशोर चौहान ने सीताराम मंडल एवं उसके पुत्र को दरकिनार कर दिया था। यही बात सीताराम मंडल एवं उसके पुत्र को नागावार गुजरा। यहीं अनदेखी नवल के हत्या का कारण बना था। नवल किशोर चौहान एवं सीताराम मंडल रिश्तेदार होने के कारण नवल हत्याकांड में समझौते तक बात पहुंची। जिसमें समझौते में तय हुआ कि इस पंचायत चुनाव में सभी एकबार मिलजुल कर मुन्नी देवी को मुखिया बनाने में सहयोग करना है। तब नवल हत्या मामले केस में समझौता कर लिया जायेगा। समझौते के अनुसार मुन्नी देवी को सीताराम मंडल के परिवार ने मुखिया चुनाव में भरपूर सहयोग किया। लेकिन अंततः मुन्नी देवी चुनाव हार गई। मुन्नी देवी का सीताराम मंडल से समझौता का उपेंद्र उर्फ ओपी मंडल विरोध कर रहा था। यहीं कारण है कि उपेंद्र ने गोली मारी।
2018 में उपेन्द्र मंडल ने की थी पति की हत्या
पूर्व मुखिया के पुत्र देवराज चौहान ने कहा गांव के ही उपेन्द्र मंडल से वर्षों से विवाद चल रहा है। विवाद में उपेन्द्र मंडल अपने गुर्गों के साथ मिलकर तीन वर्ष पूर्व 28 जून 2018 को पिता नवल किशोर चौहान की गोली मारकर हत्या कर दी थी। हत्या मामले में कुछ लोग जेल में बंद है। शुक्रवार की संध्या करीब चार बजे उनकी मां मुन्नी देवी बाछनी गांव स्थित अपने घर पर थी। तभी उपेन्द्र मंडल आया और उनकी मां के पेट में गोली मार दी। शोर सुनकर जब वह बाहर आये तो देखा कि उपेन्द्र मंडल अपने हाथ में लिये देशी कट्टा लहराते हुए भाग रहा है, और मां खून से लथपथ जमीन पर गिरी हुई है। आनन -फानन में उन्होंने उपचार के लिए अमरपुर अस्पताल लेकर आये। जहां डॉक्टर ने प्राथमिक उपचार कर गंभीर स्थिति को देखते हुए बेहतर उपचार के लिए भागलपुर रेफर कर दिया।