जज्बे को सलाम : दो बेटों का सहारा लेकर ब्लॉक पहुंचीं 80 साल की पानमती देवी ने वार्ड मेंबर का भरा पर्चा, पति रहे हैं 2 बार विधायक

जज्बे को सलाम : दो बेटों का सहारा लेकर ब्लॉक पहुंचीं 80 साल की पानमती देवी ने वार्ड मेंबर का भरा पर्चा, पति रहे हैं 2 बार विधायक

गोपालगंज । बिहार पंचायत चुनाव के दूसरे चरण में विजयीपुर प्रखंड कार्यालय में 7 सितम्बर से लगातार नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए हर दिन प्रत्याशियों की भीड़ लग रही है। प्रत्याशी अपने समर्थकों के काफिला के साथ नॉमिनेशन करने प्रखंड कार्यालय आ रहे हैं। उम्मीदवारों व उनके समर्थकों की भीड़ के कारण प्रखंड कार्यालय में पूरे दिन गहमागहमी रह रही है। इसी भीड़ के बीच शुक्रवार को एक ऐसी शख्सियत नामांकन करने पहुंची जिन्हें देखकर हर कोई हैरान रह गया। दरअसल भोरे विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधायक रह चुके स्वर्गीय बद्री राम की 80 वर्षीय पत्नी पानमती देवी ने वार्ड सदस्य पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया। अपने दो पुत्रों का सहारा लेकर पैदल विजयीपुर के सहडियरी गांव निवासी 80 वर्षीय पानमती देवी प्रखंड कार्यालय पहुंचीं और पंगरा पंचायत के वार्ड नंबर तीन से वार्ड सदस्य के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। इसी के साथ पंचायत चुनाव के सबसे अधिक उम्र की प्रत्याशी होने का रिकार्ड भी पानमती देवी ने अपने नाम कर लिया।
भोरे विधानसभा क्षेत्र के दो बार विधायक रह चुके स्वर्गीय बद्री राम की पत्नी पानमती देवी को 80 साल की उम्र में वार्ड सदस्य पद के लिए नामांकन पत्र भरने की जानकारी होने पर लोग आश्चर्यचकित रह गए। लोगों के बीच पूर्व विधायक की पत्नी का 80 साल की उम्र में, वह भी वार्ड सदस्य पद के लिए पर्चा भरना पूरे दिन चर्चा का विषय बना रहा।
बता दें कि पानमती देवी के पति बद्री राम साल 1962 और 1967 में भोरे विधानसभा क्षेत्र से दो बार प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के टिकट पर विधायक चुने गए थे। वे लगातार दस साल तक विधायक रह थे। दो साल पहले विधायक बद्री राम का निधन हो गया। इनके तीन पुत्र थे। तीन साल पहले एक पुत्र का बीमारी से देहांत हो गया। दो पुत्र घर पर रहकर खेतीबारी करते हैं।
वार्ड सदस्य पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद पानमती देवी ने कहा कि उनके पति ने गरीबों की सेवा करने में अपना पूरा जीवन लगा दिया। अपने वार्ड में विकास कार्य करने के लिए वे वार्ड सदस्य पद पर चुनाव में उतरी हैं। किसी जमाने में इस बुजुर्ग महिला के पति की राजनीति के क्षेत्र में तूती बोलती थी। वे जनसरोकार के लिए जाने जाते थे और लोगों के दुख दर्द में साथ खड़े रहते थे। अब भले ही विधायक के तौर पर नहीं वार्ड सदस्य बनकर ही सही उनकी पत्नी ने समाज के साथ खड़े होने का इरादा किया है जिसकी सभी प्रशंसा कर रहे हैं।