काले हिरण की हत्या के बाद खाल सुखा रहे थे तस्कर, खाल बरामद, तस्कर फरार

काले हिरण की हत्या के बाद खाल सुखा रहे थे तस्कर, खाल बरामद, तस्कर फरार

भभुआ । रविवार को गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी में दुर्गावती थाना क्षेत्र के करारी गांव में एक झोपड़ी के ऊपर सुखाए जा रहे काला हिरण की खाल बरामद हुई। हालांकि सूचना के बाद अभियुक्त फरार हो चुका था। वन प्रमंडल के सहायक वन संरक्षक राजकुमार शर्मा ने बताया है कि आरोपित जैनुद्दीन खान का पुत्र नसीरुद्दीन खान बताया गया है। उसके विरुद्ध वन विभाग की ओर से मुकदमा दर्ज कर अग्रेतर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। काला हिरण की खाल को बरामद कर सैंपल जांच के लिए देहरादून भेज दी गई है।वन प्रमंडल के सहायक वन संरक्षक राजकुमार शर्मा ने बताया कि 100 नंबर पर गुप्त सूचना मिली थी। दुर्गावती पुलिस के सहयोग से करारी गांव में छापेमारी की गई। 
एक झोपड़ी पर काला हिरण के जिस खाल सुखाया जा रहा था उसमें गोली लगी है : वन प्रमंडल के सहायक वन संरक्षक राजकुमार शर्मा ने बताया है कि काला हिरण के जिस खाल सुखाया जा रहा था उसमें गोली लगी है।अंदेशा है कि आरोपित तस्कर के द्वारा गोली मारकर काला हिरण की हत्या कर दी गई। उसके खाल को सुखाया जा रहा था। आरोपित की गिरफ्तारी के लिए भी प्रयास किया गया,लेकिन तब तक वह फरार हो चुका था। घटना करीब 1:30 बजे की है। काला हिरण वन्य प्राणी सुरक्षा अधिनियम के शेड्यूल वन में आता है। इसे गंभीर अपराध की श्रेणी में रखा गया है। वन प्रमंडल पदाधिकारी विकास अहलावत ने कहा कि सूचना के आधार पर खाल बरामद की गई है।
बीते 22 दिसंबर को अधौरा थाना क्षेत्र के बड़वान गांव से पुलिस एक लेपर्ड की छाल भी बरामद की थी। इस दौरान  भगवानपुर थाना क्षेत्र के भगवानपुर गांव निवासी एक तस्कर गिरफ्तार किया गया था। वन्य प्राणियों के तस्करी का मामला पुलिस और वन विभाग की टीम के संज्ञान में आने के बाद यह स्पष्ट हो रहा है कि जिले के विभिन्न हिस्सों में वन्य प्राणियों और जंगली जीव- जंतुओं के तस्कर तस्करी के कारोबार में संलिप्त हैं। जिले के कुछ हिस्सों में वन्य प्राणियों की तस्करी में नेटवर्क बड़े शहरों के तस्करों से जुड़ा हुआ है।
वन्यप्राणियों के तस्कर कैमूर के ग्रामीण क्षेत्रों में भी सक्रिय
वन्यप्राणियों के तस्कर कैमूर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में भी सक्रिय हैं। बीते करीब 10 माह पूर्व साल 2020 के  दिसंबर महीने में भगवानपुर व अधौरा के क्षेत्र में छापेमारी हुई थी। यह कार्रवाई तत्कालीन एसपी दिलनवाज अहमद और वाइल्डलाइफ की टीम ने संयुक्त रूप से की थी। कार्रवाई के दौरान 13 दिसंबर 2020 को जब तस्कर भभुआ शहर के एक चर्चित होटल के पास संरक्षित तेंदुए एवं पेंगोलिन खरीद बिक्री के उद्देश्य से जमा हो रहे थे, 6 आरोपित पुलिस के हत्थे चढ़े थे। पुलिस के हत्थे चढ़े तस्करों के पास से मृग कस्तूरी,कछुआ के अलावे तेंदुआ का छाल सहित अन्य वन्यजीवों के दांत व बाल बरामद किए गए थे। तस्करों के पास से मृग कस्तूरी, कछुआ के अलावे तेंदुआ का छाल सहित अन्य वन्य जीवों के दांत व बाल समेत वन्य प्राणियों के कई अवशेष जो बरामद किए गए थे।